Home Blog

36 वां नेशनल गेम: छत्तीसगढ़ सॉफ्टबॉल महिला टीम ने पिछली बार की विजेता केरल को 1-0 से हराया

0 अपने पूल में सबसे आगे है छत्तीसगढ़ की सॉफ्टबॉल महिला टीम कल दिल्ली से होगा मुकाबला

रायपुर, 09 अक्टूबर (एजेंसी) 36वें नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ की सॉफ्टबॉल महिला टीम ने आज पिछली बार की विजेता केरल की टीम को 1-0 से हरा दिया। 5 इनिंग तक चले इस रोमांचकारी मैच में दर्शकों की दिलचस्पी अंत तक बनी रही। छत्तीसगढ़ सॉफ्टबॉल महिला टीम मेजबान गुजरात और केरल को हराकर अपने पूल में सबसे आगे है। कल छत्तीसगढ़ का मैच दिल्ली के साथ होगा।
आज हुए मुकाबले में केरल ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने का फैसला किया और छत्तीसगढ़ को पहले बैटिंग करने के लिए कहा। केरल ने शानदार शुरुआत की और अपनी जोरदार पिचिंग में छत्तीसगढ़ के पहले बैटर गंगा सोना को शून्य पर आउट कर दिया, लेकिन दूसरे बैटर अंजू तांडी ने केरल की जोरदार पिचिंग का बहुत ही हिम्मत के साथ मुकाबला किया और हिट मारकर पहले बेस में पहुंचने पर कामयाब रही। उसके बाद छत्तीसगढ़ की बरखा यादव ने भी अपनी बैटिंग से अंजू तांडी को थर्ड बेस तक पहुंचाने में मदद की। बैटिंग का यह क्रम आगे नहीं बढ़ पाया और सोनाली साव ने एक लंबा हिट मारा जो कैच हो गया और इस तरह सोनाली आउट हो गई। लेकिन इस दौरान अंजू तांडी ने बेहतरीन रनिंग का प्रदर्शन करके एक रन पूरा कर लिया।  
इसके बाद छत्तीसगढ़ की फील्डिंग में गंगा सोना ने बहुत जोरदार पिचिंग की और केरल की सभी बेहतरीन बैटर को शून्य पर आउट कर दिया। इस प्रकार पहले इनिंग पर छत्तीसगढ़ की टीम 1-0 से आगे हो गई। दूसरी से लेकर पांचवी इनिंग तक दोनों ही टीमें रन बनाने के लिए जोर आजमाइश करते रहे लेकिन बार-बार थर्ड बेस पहुंचने के बावजूद कोई भी टीम रन बनाने में कामयाब नहीं हो सकी।
केरल ने पांचवी इनिंग तक छत्तीसगढ़ को और रन बनाने का मौका नहीं दिया। इस समय तक छत्तीसगढ़ केरल की टीम से से एक ही रन से ही आगे थी। इसके बाद केरल की बैटिंग थी। जिसमें केरल ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी और खेल रोमांचकारी हो गया। एक बार तो ऐसा लगा कि केरल की टीम एक ही हिट में 2 रन बना लेगी लेकिन छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी बरखा यादव, अंजू तांडी ने बेहतरीन फील्डिंग करते हुए बहुत ही कठिन कैच पकड़े जिससे केरल की टीम शून्य पर आउट हो गई और इस संघर्षपूर्ण मैच को छत्तीसगढ़ 1-0 से जीतने में कामयाब रही।

लद्दाख में बड़ा हादसा: भूस्खलन की चपेट में आए सेना के तीन वाहन, 6 सैनिकों की मौत

सातवां पहर (एजेंसी)
लेह-लद्दाख में भूस्खलन की चपेट में सेना के तीन वाहन आने से 6 सैनिकों की मौत हो गई है। हादसा शुक्रवार सुबह उस समय हुआ जब सेना की तीनों गाड़ियां लद्दाख से आगे जा रही थीं। अचानक रास्ते में भारी भूस्खलन हो गया। इसमें 6 जवानों की मौत हो गई। सेना ने इसकी पुष्टि की है। मामले की जांच जारी है। भारतीय सेना के काफिले के 03 वाहन सुबह लद्दाख से दूसरे ग्लेशियर जाते समय भारी भूस्खलन की चपेट में आ गए, जिसमें 6 जवानों की मौत हो गई।

इससे पहले अगस्त में उत्तराखंड के उत्तरकाशी में भैरव घाटी और नेलांग के बीच भूस्खलन की चपेट में आने से एक जवान की मौत हो गई थी। इसी पेट्रोलिंग टीम में शामिल एक डॉक्टर घायल हो गया था। इनके अलावा कुछ अन्य जवानों को रेस्क्यू किया गया था।

चिकित्सा अधिकारी बने मनीष, सूची में पत्नी का नाम भी शामिल, आदेश जारी..

*सातवां पहर/मुंगेली*
छत्तीसगढ़

मुंगेली/ राज्य शासन द्वारा 390 डॉक्टरों की पोस्टिंग की गयी है यह आदेश 27 जुलाई को जारी किया गया है, इसी आदेश में मुंगेली नगर के प्रतिष्ठित वकील जीवन बंजारा के पुत्र मनीष एवं पुत्रवधु संध्या बंजारा का नाम भी शामिल है, इसके पहले भी डॉक्टर मनीष बंजारा, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुंगेली में अपनी सेवा दे चुके है, नए आदेश में उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पदमपुर का प्रभार दिया गया है, चूंकि मनीष चिकित्सा के क्षेत्र में काफी अनुभव अर्जित कर चुके है ऐसे में पदमपुर के ग्रामीण इनके अनुभव का लाभ पा सकेंगे। इनकी धर्मपत्नी की पोस्टिंग जिला अस्पताल मुंगेली में हुई है।


*उम्र में कम, तजुर्बे में ज्यादा*
यूक्रेन से एम बी बी एस की डिग्री हासिल करने वाले मनीष महज 31 वर्ष की उम्र में ही कई बड़े अस्पतालों में पोस्टेड रहे है वहां ड्यूटी के दौरान विशेषग्यो का उन्हें मार्गदर्शन भी खूब मिला, यही कारण है कि वे अपने काम मे निपुण है।

*वर्तमान में अपोलो अस्पताल में दे रहे सेवा*
डॉ. मनीष बंजारा वर्तमान में अपोलो हॉस्पिटल बिलासपुर में बतौर चिकित्सक पोस्टेड हैं,जो किसी भी डॉक्टर के लिए बड़ी बात है, ऐसे में मनीष के लिए यह चुनना कि उन्हें कहाँ सेवा देनी है ये भी किसी चुनौती से कम नही, बहरहाल ये तो उनके विवेक पर निर्भर करता है कि वे क्या चुनेंगे।

देखें सूची


बिना एस पी के संज्ञान में लाए, पत्रकारों पर थाना प्रभारी नही कर सकेंगे अपराधिक प्रकरण दर्ज..

मुंगेली/सातवां पहर

पत्रकारों पर अब कोई भी अपराधिक प्रकरण पुलिस अधीक्षक के संज्ञान में लाने के उपरांत ही दर्ज किये जाएंगे, ऐसा ही एक निर्देश आज शाम एसपी चंद्रमोहन सिंह ने मुंगेली जिले के समस्त थाना प्रभारियों को जारी किया है। पूरा पढ़ें…

खबरें और भी हैं